भाजपा हमलावर : तीन ऑडियो टेप और कौशानी मुखर्जी के वायरल वीडियो से बढ़ी तृणमूल की मुश्किल


बता दें कि कौशानी दो महीने पहले तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुई थीं और कृष्णानगर सीट से मुकाबले में हैं। उन्होंने दावा किया कि भाजपा के आईटी सेल ने उनके बयान के सिर्फ एक हिस्से को सामने रखा और इसे अलग रंग दे दिया। कौशानी ने एक बयान में कहा कि मैंने इस तथ्य को रेखांकित किया था कि बंगाल महिलाओं के लिए सुरक्षित स्थान है। यह राज्य भाजपा शासन वाले उत्तर प्रदेश की तरह नहीं है जहां हाथरस कांड हुआ। भाजपा के आईटी सेल ने ओछी राजनीति के लिए इस वीडियो को काट-छांट कर पेश किया। 

कौशानी ने अपने फेसबुक पेज पर एक वीडियो पोस्ट कर इसे अपना मूल बयान बताया। इसमें वह अपने निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार करती हुई दिखीं और मतदाताओं से कह रही थीं आपके घर पर मां-बहन हैं, भाजपा को वोट करने से पहले दो बार सोच लीजिए।  वीडियो में कौशानी यह भी कहते हुए दिखीं कि दीदी के बंगाल में महिलाएं सुरक्षित हैं। अगर आप चाहते हैं कि भाजपा शासित उत्तर प्रदेश के हाथरस जैसी घटना बंगाल में नहीं हो तो भाजपा को वोट नहीं दें। 

अदाकारा से भाजपा नेता बनीं रूपा भट्टाचार्य ने एक पोस्ट में कौशानी पर निशाना साधते हुए कहा कि आपके बयानों ने सबको शर्मसार कर दिया है। वहीं, तृणमूल कांग्रेस की मंत्री शशि पांजा ने कहा कि कौशानी के बयान को वीडियो में काट-छांट कर पेश किया गया और पूरा बयान नहीं दिखाया गया।

ऑडियो टेप को लेकर भाजपा के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने किया टीएमसी पर हमला
भाजपा के प्रवक्ता गौरव भाटिया ने आरोप लगाते हुए कहा है कि टीएमसी के तीन ऑडियो टेप आज सामने आए हैं, वे दर्शाते हैं कि आज पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नाक के नीचे किस तरह से भ्रष्टाचार, कटमनी का राज चल रहा है। ऑडियो टेप के जरिए पता चला कि सरकारी तंत्र का इस्तेमाल कर उगाही करने वालों को दिया जा रहा है। 

गौरव भाटिया ने कहा कि अभी आप सभी ने देखा होगा कि सभी चैनल पर एक ऑडियो टेप सुनवाया जा रहा है। ये ऑडियो टेप एक व्यक्ति गणेश बागड़िया के हैं, जो एक बड़ा खुलासा कर रहे हैं। गणेश बागड़िया, अनूप मांझी के करीबी हैं, जो कोयला घोटाला के मुख्य आरोपी भी हैं।

भाटिया ने कहा कि इन ऑडियो टेप में जो तथ्य हैं, वो दर्शाते हैं कि आज पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी की नाक के नीचे किस तरह भ्रष्टाचार, कटमनी और सिंडिकेट राज चल रहा है। ये सब मुख्यमंत्री की आंखों के सामने हो रहा है और उनके भतीजे के खासमखास विनय मिश्रा उगाही एजेंट बनकर सबसे डिमांड कर रहे हैं। ये पूरा उगाही स्कैंडल करीब 900 करोड़ से 1,000 करोड़ रुपये तक का है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *